बंद करे

इतिहास

  • पुराना पुल

    पुराना पुल

  • दरबार हाल

    दरबार हाल

  • गाँधी गेट

    गाँधी गेट

  • लक्ष्मी नारायण मन्दिर

    लक्ष्मी नारायण मन्दिर

  • मिंजर मेला

    मिंजर मेला

  • शीर्ष दृश्य पुराना चम्बा

    शीर्ष दृश्य पुराना चम्बा

चम्बा उतरी भारत का एकमात्र राज्य है जो लगभग 500 ई0 से एक सही ढंग से प्रलेखित इतिहास को संरक्षित करता है। इसकी उच्च पर्वत श्रृंखलाओं ने इसे आश्रय प्रदान किया है और इसके वर्षो पुराने अवशेषों व शिलालेखों को संरक्षित करने में सहायता की है। चम्बा के राजाओं द्वारा हजारों साल से अधिक स्थापित मन्दिरों की पूजा के अधीन रहना और उसके द्वारा ताम्बे की प्लेटों पर किये गये भूमि अनुदान कर्मो को कानून के तहत वैद्य होना जारी है।

इस क्षेत्र के प्रांरभिक इतिहास के बारे में यह माना जाता है कि इस क्षेत्र में कोलीयन जनजातियों का निवास था। जो बाद में खसों के अधीन हो गये थे। खस के बाद आडुम्बर्स (2 ई0 पूर्व) प्रभाव में आये थे। आडुम्बर्स में गणराज्य सरकार का शासन था। और शिव की वे प्रमुख देवता के रुप में पूजा करते थे। गुप्त काल (4 शताब्दी) से चम्बा क्षेत्र ठाकुर और राणों के नियंत्रण में था। जो स्वयं को कोलियों और खसों की कम जनजातियों से वेहतर माना जाता था। गुज्जर प्रतिहारों (7वीं शताब्दी) के उदय के साथ राजपूत राजवंश सता में आए।

लगभग 500 ई0 पौराणिक मारु नामक एक महान नायक कल्पग्राम से उतर पश्चिम मे चले गये (एक पौराणिक स्थान जहां से राजपूत साम्राज्यों के अधिकार जिसका लोग अपने वंश का दावा करते है) और वर्तमान चम्बा शहर के पूर्व में 75 कि0 मी0 दूर बुदल नदी की घाटी मे ब्रह्यपुर (भरमौर) की स्थापना की। उसके उतराधिकारियों ने 300 से अधिक वर्षो के लिए उस राजधानी शहर से देश पर शासन करना जारी रखा जब तक कि साहिल वर्मन ने अपनी राजधानी ब्रह्यमपुत्र से नीचे की रावी घाटी में अधिक केन्द्रित भू-भाग तक स्थानांतरित कर दिया। उन्होंने अपनी प्यारी वेटी चम्पा के नाम से शहर का नाम रखा। उनकी रानी स्वेच्छा से खुद को एक बलिदान के रुप में प्रस्तुत करती थी, जिसने एक बहने वाली नाली के जरिए शहर के लोगों के लिए पानी उपलब्ध करवाया था, जोकि भलोटा नामक स्थान पर उत्पन्न होता है। चम्बा योजना का प्रवन्ध प्राचीन ग्रंथो के अनुरुप है। तब से चम्बा के राजवंशों के वंश ने यहां से एक निरंतर और सीधी रेखा में शासन करना जारी रहा।

मुस्लिमों ने कभी चम्बा पर हमला नहीं किया हालांकि इसके पडोसी राज्यों में समान संस्कृति की पृष्ठ भूमि वाले सामायिक झगडे थे। इस प्रकार इन आक्रमणों से चम्बा को शायद ही कभी गंभीर नुकसान हुआ। और मुरम्मत की संभावना से परे कभी भी नहीं था। यहां तक कि शक्तिशाली मुगलों को संचार और लम्बी दूरी से जुडी कठिनाईयों के कारण खाडी में रखा गया था। अकबर ने चम्बा सहित पहाडी राज्यों और धौलाधार के दक्षिण में शाही क्षेत्र के लिए इन राज्यों के उपजाऊ इलाकों को नियंत्रित करने की कोशिश की। औरगजेव ने एक बार चम्बा के राजा चतर सिंह (1664-1694 ई0) को आदेश दिया कि वह चम्बा के सुन्दर मन्दिरों को हटा दें। लेकिन इसके वाबजूद मुगल शासक की आज्ञा का स्पष्ट उल्लघंन करते हुए राजा ने मन्दिरो पर चकाचौंध लगा दी। उन्हें शाही क्रोध का सामना करने के लिये दिल्ली आने का आदेश दिया गया।

लेकिन औंरगजेव को खुद को दक्कन के लिए छोडना पडा, जहां से वह अपने जीवन के अंत तक विमुख नहीं सके। सम्पूर्ण उतरी भारत ने मुगल शासन काल में राजा पृथ्वी सिंह (1641-1664 ई0) के दौरान तुलनात्मक रुप से शांतिपूर्ण स्थिति का अनुभव किया, एक सुन्दर और शूरवीर रात शाहजहां की पसंदीदा थी और कई बार उन्होंने शाही अदालत का दौरा किया था। उन्होंने चम्बा मे मुगल राजपूत कला और वास्तुकला समेत अदालती जीवन की मुगल शैली की शुरुआत की।

18वीं शताब्दी की आखिरी तिमाही तक सिखों ने पहाडी राज्यों को श्रद्धाजंलि अर्पित करने के लिए मजवूर किया। महाराजा रणजीत सिंह ने व्यवस्थित रुप से पहाडी मूल्यों की ओर अधिक शक्तिशाली कांगडा शासक संसार चन्द कटोच समेत हटा दिया था। लेकिन सेवाओं के वदले चम्बा को छोडकर बजीर नाथू (चम्बा के) ने उन सेवाओं के बदले दो विशेष अवसर प्रदान किये थे। 1809 ई0 में वजीर ने राजा संसार चन्द कटोच के साथ अपने समझौते पर बातचीत करके महाराजा को खुद को कांगडा का उपयोगी बनाया था। फिर भी 1817 ई0 में उन्होंने कश्मीर मे सदियों से पहले के अभियान के दौरान एक महत्वपूर्ण क्षण में अपने घोडे की पेशकश करके रणजीत सिंह के जीवन को बचाया। रणजीत सिंह की मृत्यु के बाद चम्बा अन-संरक्षित बन गया और इसे सिख राज्य के विघटन के भंवर में खींचा गया। सिख सेना ने 1845 ई0 में ब्रिटिश क्षेत्र पर हमला किया और चम्बा में तैनात सिख सेना के सैनिकों को तैयार किया गया। जव सिखां को हराया गया था। तो इसे जम्मू और कश्मीर मे चम्बा को विलय करने का निर्णय लिया गया था। लेकिन बजीर नाथ के समय पर हस्तक्षेप के कारण इसे ब्रिटिश नियंत्रण के तहत लिया गया था। और जो 1200 रुपये वार्षिक उपहार के अधीन था। जिन राजाओं के ब्रिटिश वर्चस्व को कुछ देखा, उनमें से श्री गोपाल सिंह, शाम सिंह, भूरी सिंह, राम सिंह और लक्ष्मण सिंह थे। ब्रिटिश राजनीतिक अधिकारियों के साथ उनके संबंध सौहार्दपूर्ण प्रतीत होते हैं। और चम्बा में कई सुधारों को देखा है।

15 अप्रैल, 1948 को तीन प्रमुख राज्यों को मिलाकर पुराने हिमाचल का निर्माण हुआ। चम्बा, मण्डी-सुकेत, सिरमौर और अन्य सभी राज्य शिमला पहाडियां में पडते है।

राजा साहिल वर्मन से पहले चम्बा क्षेत्र को टुकडो में विभाजित किया गया था, जिसे रहनू नामक राणों और छोटे से सरदारों द्वारा कब्जा कर लिया गया था, जो एक-दूसरे के साथ लगातार युद्ध करते थे। राजा साहिल वर्मन ने राणाओं को अपनाया और क्षेत्र को एक जुट किया। इसलिए राजा ने बेहतर प्रशासन के लिए चम्बा को मण्डल के रुप में जानने के लिये 5 क्षेत्रों में विभाजित किया। इन मण्डल को बाद में विजारत के रुप में नाम दिया गया। चम्बा क्षेत्र का यह पांच गुना विभाजन आज भी जारी है। विजारतें को अब तहसील कहा जाता है। ये भरमौर, चम्बा, भटियात, चुराह और पांगी है।