जिले के बारे में

चम्बा जम्मू और कश्मीर से उतर-पश्चिम, जम्मू-कश्मीर राज्य के लद्दाख क्षेत्र और हिमाचल प्रदेश के लाहौल और बडा-बंगाल क्षेत्र, दक्षिण-पूर्व और दक्षिण में जिला कांगडा द्वारा उतर-पूर्व और पूर्व में चम्बा की सीमा पर पंजाब के हिमाचल प्रदेश और गुरदासपुर जिला स्थित है।चम्बा जिला उतर अक्षांश 32̊ 11’ 30“ और 33̊ 13’ 6“ और पूर्वी देशांतर 75̊ 49’ और 77̊ 3’ 30“ के बीच स्थित है अनुमानित क्षेत्र के 6522 वर्ग कि0 मी0 के साथ और विशाल पहाडी पर्वतमाला द्वारा सभी तरफ से घिरा हुआ है। यह क्षेत्र पूर्ण रुप से 2000 से 21000 फीट तक की ऊंचाई वाली पहाडी हैं।
चम्बा भगवान शिव की भूमि अपने अनछुए प्राकृतिक सौदंर्य के लिए प्रसिद्ध हैं। मख्य पर्यटन स्थलों के रुप में जिले में डलहौजी, खज्जीयार, चम्बा शहर, पांगी और भरमौर है। यहां पांच झीलें है, पांच वन्य जीव अभ्यारण और अनगिनत मन्दिर हैं।
चम्बा, हिमाचल प्रदेश का एक छोटा लेकिन आकर्षक पर्यटन स्थल है, इसकी उतम प्राकृतिक सुन्दरता के लिये जाना जाता है। यह जगह, सुरम्य और सफेद घाटियों के बीच स्थित है, पर्यटकों द्वारा वर्ष भर मे दौरा किया जाता हैं। पहाडो की उप-हिमालय श्रृंखला, विविध, वनस्पतियों और जीवों से भरा है। चम्बा को एक प्राणपोषक अनुभव बनाते है। जगह का सुखद माहौल एक और पहलू है कि चम्बा पूरे भारत में लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक हैं।
निम्नलिखित पंक्तियों में, हम आपको मौसम और चम्बा की जलवायु के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करेगेंः-

ग्रीष्मकालीन

चम्बा में गर्मी का मौसम अप्रैल के मध्य से शुरु होता है और जून के अन्तिम सप्ताह तक रहता है। यहां तक कि ग्रीष्मकाल में, जब मैदानी उच्च तापमान से उबलतें हैं, तो यहां का मौसम काफी सुखदायक होता है। यह वह समय है जव अधिकांश पर्यटन इस जगह पर आश्रय लेते है। दिन थोडे गर्म होते हैं, लेकिन राते प्रेम प्रसंगयुक्त और शांत होती है। हल्के सूती कपडे गर्मियों के दौरान आदर्श होते है।

मानसून

चम्बा में वर्षा जुलाई के महीने में होती है। जव मानसून टूटता रहता ह,ै और अगस्त के मध्य या मध्य सितम्बर तक जारी रहता है। यह वह समय है जव मौसम धुंधली और बादल छायें रहेगें। इस समय के दौरान पूरी घाटी को हल्के हरे रंग के रंग मे ढक दिया जाता है, जिसमें बार-बार धूप की चमक में नव धूले पते चमकते है।

सर्दियां

चम्बा में सर्दियों का मौसम दिसम्बर के महीने मेे शुरु होता है और फरवरी के महीने तक रहता है। इस मौसम के दौरान, चम्बा आम तौर पर शांत और शुष्क रहता है, लेकिन इन महीनों के दौरान उच्च ऊंचाई पर वर्फबारी होती है। सर्दियों के मौसम में तापमान भी निचले क्षेत्र में ठण्ड के विन्दु तक गिर सकता है, और वर्फवारी भी हो सकती है। पर्यटकों को इस मौसम में भारी ऊनी कपडों के साथ जाना चाहिए और वर्फबारी का आनन्द लें।